logo-image
लोकसभा चुनाव

Murder Case: विहिप नेता के मर्डर केस में मिला आतंकी इनपुट, NIA के हाथ लगे अहम सुराग

Murder Case: पंजाब से सनसनीखेज खबर सामने आ रही है. जहां पंजाब के नंगल में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के नेता विकास प्रभाकर उर्फ उर्फ विकास बग्गा की हत्या के मामले में नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी के हाथ अहम सुराग लगे हैं.

Updated on: 10 Jul 2024, 12:48 PM

highlights

  • गृह मंत्रालय के साथ साझा किए गए अहम सुराग
  • पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई को लेकर किए कई खुलासे 
  • विगत दिनों विहिप नेता की कर दी गई थी हत्या

 

नई दिल्ली :

Murder Case: पंजाब से सनसनीखेज खबर सामने आ रही है. जहां पंजाब के नंगल में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के नेता विकास प्रभाकर उर्फ विकास बग्गा की हत्या के मामले में नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी के हाथ अहम सुराग लगे हैं. बताया जा रहा है कि विश्व हिन्दू परिषद के नेता विकास बग्गा की हत्या के पीछे आतंकी संगठनों का हाथ होने का इनपुट मिला है. एजेंसी ने गृह मंत्रालय के साथ भी मिले इनपुट को साझा किया है.  एनआईए के मुताबिक विकास की हत्या के पीछे पाकिस्तान में बैठे आतंकी हरविंदर रिंदा और व एक आतंकी संगठन का हाथ है होना बताया जा  रहा है. 

यह भी पढ़ें : Gurugram Crime: 16 साल के लड़के ने 9 साल के पड़ोसी की कर दी हत्या, भेजा गया सुधार गृह

विदेशी हैंडलर से फंडिंग
यही नहीं एनआईए ने यहां तक कहा है कि इसके पीछे आईएसआई के एजेंट की मदद से ही पुर्तगाल में बैठे विदेशी हैंडलर से फंडिंग का मामला भी मिला है. आतंकी रिंदा के गुर्गों ने ही हत्यारों को हथियार मुहैया कराए थे. यही नहीं भारतीय एजेंसी एनआईए के साथ रॅा भी विदेशी फंडिंग का पता लगाने में जुट गए हैं.. एनआईए ने विकास की हत्या के मामले में 16 मई 2024 को केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू की थी. लेकिन अभी तक पता ही नहीं चल पा रहा था कि आखिर विहिप नेता के असली हत्यारे कौन हैं. करीब चार माह बाद पता चल सका है कि बग्गा की हत्या के पीछे किन ताकतों का हाथ था. 

आतंकी संगठन ने कराई थी हत्या
दरअसल,  13 अप्रैल की शाम नंगल के रेलवे रोड पर मंडल के प्रधान विकास बग्गा की दो अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. हत्यारे वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए थे. तभी से पुलिस हत्यारों की तलाश में थी. जब पुलिस के साथ केस को वर्कआउट करने के लिए एनआईए की मदद ली गई. एनआईए ने खुलासा करते हुए कहा है कि बग्गा की हत्या के पीछे आतंकी इनपुट मिला है. इस हत्या के लिए फंडिंग पुर्तगाल में बैठे विदेशी हैंडलर्स ने की थी. पाकिस्तान के आतंकी संगठन और आईएसआई की मदद से यह हत्या करवाई गई. जिन शूटर्स को दबोचा गया है वे सिर्फ हैंडलरों के प्यादे हैं.