logo-image
लोकसभा चुनाव

Mental Health: मानसिक रूप से मजबूत बनाएंगे ये 5 टिप्स, फॉलो कर लिया तो जिंदगी हो जाएगी सेट

Mental Health: शारीरिक मजबूती से ज्यादा जरूरी है मानसिक मजबूती (Mentally Strong). तन तभी स्वस्थ होगा जब मन भी स्वस्थ होगा. मेंटली कमजोर व्यक्ति अपनी शारीरिक शक्ति को भी खो देता है. आयुर्वेद ने हमेशा से तन के साथ-साथ मन को स्वस्थ रखने पर जोर दिया है.

Updated on: 10 Jul 2024, 01:13 PM

नई दिल्ली :

Mental Health: शारीरिक मजबूती से ज्यादा जरूरी है मानसिक मजबूती (Mentally Strong). तन तभी स्वस्थ होगा जब मन भी स्वस्थ होगा. मेंटली कमजोर व्यक्ति अपनी शारीरिक शक्ति को भी खो देता है. आयुर्वेद ने हमेशा से तन के साथ-साथ मन को स्वस्थ रखने पर जोर दिया है.  आजकल की युवा पीढ़ी जिम जाकर खुद को शारीरिक रूप से स्वस्थ रख रही है. इसके बावजूद भी डिप्रेशन और आत्महत्या के केस बढ़ रहे हैं. इसलिए हमेशा से फिजिकल एबिलीटी के साथ मेंटल हेल्थ (Mental Health) पर भी फोकस करने के लिए कहा जाता है. मानसिक रूप से खुद को स्वस्थ रखना मुश्किल काम नहीं है. लोग अपनी नियमित जीवनशैली में कुछ चीजों का ध्यान रखकर भी खुद को मानसिक रूप से स्वस्थ रख सकते हैं. अगर आप भी मानसिक रूप से मजबूत बनना चाहते हैं तो ये 5 टिप्स फॉलो करना शुरू कर दीजिए. 

सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठें

कई लोग सुबह काफी लेट उठते हैं.  मानसिक स्वास्थ्य के लिए ये बिल्कुल भी सही नहीं है. हमें ब्रह्म मुहूर्त में उठने की आदत डालनी चाहिए. सुबह 3.30 से लेकर 6 बजे तक उठने की कोशिश करें. ब्रह्म मुहूर्त में उठने के एक नहीं कई फायदे होते हैं. मानसिक स्वास्थ्य के हिसाब से ये सबसे लाभकारी समय है. इस वक्त निकलने वाली सूरज की किरणें आपके चित्तमन को स्वस्थ रखने में मददगार होती हैं. 

हर दिन करें कसरत 

हर दिन वर्कआउट करने की आदत डालें. वर्कआउट की बात करते वक्त हर कोई जिम के बारे में सोचता है. मगर आयुर्वेद में सुबह शाम टहलने और दौड़ने से लेकर योग-कसरत करने को भी लाभकारी माना गया है.  इससे आपके दिल की धड़कनें तेजी होंगी. इससे डोपामाइन रिलीज होगी. ये आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है. इसलिए हर दिन कसरत करने की आदत आपकी मेंटल हेल्थ को बेहतर बनाने में मदद करेगी.

फल-सब्जी अधिक खाएं

आयुर्वेद में आहार का विशेष महत्व है. फल-सब्जी अधिक खाएं. भूख से अधिक खाना न खाएं. अपने वजन को न बढ़ने दें. पैकेजिंग फूड्स कम से कम खाएं. चाय-कॉफी का कम से कम सेवन करें. आयुर्वेद कहता है 'जैसा होगा आहार, वैसा होगा व्यवहार'. यदि आप अपने आप को मानसिक रूप से स्वस्थ रखना चाहते हैं तो नेचुरल फूड्स का सेवन अधिक से अधिक करें. इसलिए अनाज, फल, सब्जी खाने की सलाह दी जाती है.

सरल और सहज रखें अपनी लाइफ 

मानसिक मजबूती के लिए अपनी लाइफ को सरल और सहज रखें. हर दिन के कार्य को तय समय पर पूरा करने की कोशिश करें. हर दिन का लक्ष्य बनाकर रखें. उसके अनुरूप काम करें. हर दिन क्या करना है और क्या नहीं, इसकी जानकारी दिमाग को साफतौर पर पता नहीं होगी तो इससे भटकना पड़ेगा. इसलिए अपने जीवन के लिए एक रूटीन बना दें. जिसके हिसाब से चल सकें.

मादक पदार्थों का सेवन न करें

मादक पदार्थ शराब, सिगरेट आदि का सेवन आजकल बहुत बढ़ गया है. इन चीजों की वजह से दिमाग पर आपकी पकड़ कम हो जाती है. आपका माइंड पूरी तरह से नशे की गिरफ्त में हो जाता है और उसी अनुसार आप व्यवहार करने लगते हैं. यही चीजें आपकी रोज की जिंदगी का शेड्यूल बिगाड़ देती हैं. इसलिए इसका सेवन बंद कर दें. 

Disclaimer: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें.