logo-image
लोकसभा चुनाव

Navratri 2024: नवरात्रि पर सिद्ध कुंजिका स्तोत्र दिलाता है दुर्गा जी की कृपा, जानें यहां

Navratri 2024: नवरात्रि के अवसर पर सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ करना मां दुर्गा की कृपा और आशीर्वाद प्राप्ति में सहायक होता है. इस स्तोत्र के पाठ से भक्तों को मां की असीम शक्ति और प्रेम का अनुभव होता है.

Updated on: 16 Apr 2024, 02:01 PM

नई दिल्ली :

Navratri 2024: सिद्ध कुंजिका स्तोत्र हिंदू धर्म में मां दुर्गा की महिमा और शक्ति का वर्णन करता है. यह स्तोत्र भक्तों को देवी की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने की कामना करता है. इसका पाठ करने से भक्तों के मन में शांति और संतुष्टि का अनुभव होता है. नवरात्रि के पावन पर्व पर, माँ दुर्गा की आराधना के साथ-साथ सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ करना भी अत्यंत फलदायी माना जाता है. यह स्तोत्र मां दुर्गा को समर्पित है, और इसका पाठ करने से भक्तों को माँ की असीम कृपा प्राप्त होती है. सिद्ध कुंजिका स्तोत्र में माँ दुर्गा के अष्ट रूपों का वर्णन है, और प्रत्येक रूप विभिन्न प्रकार की शक्तियों और वरदानों का प्रतीक है. इस स्तोत्र का पाठ करने से भक्तों को मनोवांछित फल प्राप्त होते हैं, शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है, धन-धान्य की समृद्धि प्राप्त होती है, और रोगों से मुक्ति मिलती है.

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ कैसे करें?

स्वच्छ स्नान करके पवित्र वस्त्र धारण करें. पूजा स्थान को साफ और सजाकर माँ दुर्गा की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें. दीपक जलाएं और धूप जलाकर माँ को नैवेद्य अर्पित करें. पुष्प और अक्षत अर्पित करें. ध्यान लगाकर शांत मन से सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ करें. पाठ करने के बाद मां से प्रार्थना करें और आशीर्वाद प्राप्त करें.

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र:

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे
ॐ ग्लौं हुं क्लीं जूं सः ज्वालय ज्वालय ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल
ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे ज्वल हं सं लं क्षं फट् स्वाहा

॥ मन्त्रस्यार्थः ॥

ज्वल ज्वल ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल - हे देवी! आप तेजस्विनी, तेजस्विनी, तेजस्विनी, तेजस्विनी, प्रकाशित, प्रकाशित होकर प्रज्वलित होइए.

ज्वल हं सं लं क्षं फट् स्वाहा - ज्वल हं, सं लं, क्षं फट् स्वाहा इन मन्त्रों से आप तेजस्विनी होकर प्रज्वलित होकर सबका नाश कर दें.

इस स्तोत्र का पाठ करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए कि स्तोत्र का पाठ शुद्ध उच्चारण और विधि-विधान से करें. पाठ करने के दौरान मन को एकाग्र रखें. स्तोत्र का पाठ नियमित रूप से करें. विश्वास रखें कि माँ दुर्गा आपकी प्रार्थना अवश्य स्वीकार करेंगी और आपको मनोवांछित फल प्रदान करेंगी. नवरात्रि के इस पावन अवसर पर माँ दुर्गा की आराधना करें और सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ करके माँ की असीम कृपा प्राप्त करें.

यह भी पढ़ें: Chaitra Navratri Day 9: नवरात्रि के आखिरी दिन भारत के प्रसिद्ध देवी मंदिर में माथा टेकें, बनी रहेगी देवी मां की कृपा

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)