logo-image
लोकसभा चुनाव

Role of Religion in Indian Politics: भारतीय राजनीति में क्या है धर्म की भूमिका, जानें इसके फायदे और नुकसान 

Religion in Indian Politics: राजनीति में धर्म या धर्म में राजनीति का प्रभाव समाज पर गहरा पड़ता है. भारतीय राजनीति में धर्म की क्या भूमिका है और इसके क्या फायदे नुकसान हैं आइए जानते हैं.

Updated on: 15 May 2024, 11:47 AM

New Delhi :

Role of Religion in Indian Politics: भारतीय राजनीति में धर्म सदैव से एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है. इसका प्रभाव कई पहलुओं में देखा जा सकता है, जैसे राजनीतिक दलों का गठन, चुनाव प्रचार, सामाजिक मुद्दों पर बहस, और यहां तक कि हिंसा भी. स्वतंत्रता से पहले धर्म का उपयोग अक्सर राष्ट्रवाद और सामाजिक सुधार के आंदोलनों को प्रेरित करने के लिए किया जाता था. स्वतंत्रता के बाद धर्मनिरपेक्षता को भारत के संविधान में स्थापित किया गया, लेकिन धर्म राजनीतिक दलों और चुनावों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है. अनेक राजनीतिक दल धार्मिक आधार पर संगठित हैं या धार्मिक समुदायों के समर्थन पर निर्भर करते हैं.

धार्मिक मुद्दे अक्सर चुनावों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, और राजनीतिक दल वोट हासिल करने के लिए धार्मिक भावनाओं का सहारा ले सकते हैं. धर्म अनेक सामाजिक मुद्दों, जैसे व्यक्तिगत कानून, शिक्षा, और सामाजिक सुधार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. दुर्भाग्य से, धर्म कभी-कभी साम्प्रदायिक हिंसा और तनाव का कारण भी बन सकता है. 

धर्म की भूमिका पर बहस

भारतीय राजनीति में धर्म की भूमिका को लेकर अनेक मतभेद हैं. कुछ लोग धर्मनिरपेक्षता का पुरजोर समर्थन करते हैं और उनका मानना ​​है कि धर्म और राजनीति को अलग रखा जाना चाहिए. अन्य लोग मानते हैं कि धर्म भारतीय संस्कृति और समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और इसे राजनीति में उचित प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए. धर्म की भूमिका पर बहस जारी है, और यह आने वाले समय में भी भारतीय राजनीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना रहेगा.

धर्म की भूमिका के फायदे

धर्म एक साझा पहचान और मूल्यों का आधार प्रदान कर सकता है जो लोगों को एकजुट करने में मदद करता है. धर्म सांस्कृतिक परंपराओं और मूल्यों को संरक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है. ये नैतिकता और कर्तव्य की भावना प्रदान कर सकता है जो राजनीतिक नेताओं और नागरिकों को मार्गदर्शन दे सकता है. धार्मिक संगठन अक्सर शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा और गरीबी उन्मूलन जैसे सामाजिक कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

धर्म की भूमिका के नुकसान

धर्म अलग-अलग समुदायों के बीच विभाजन और तनाव पैदा कर सकता है, जिससे साम्प्रदायिक हिंसा और संघर्ष हो सकता है. धार्मिक भावनाओं का इस्तेमाल राजनीतिक नेताओं द्वारा वोट हासिल करने और सत्ता हासिल करने के लिए किया जा सकता है, जिससे धार्मिक ध्रुवीकरण और राजनीतिक भ्रष्टाचार हो सकता है. महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों का हनन हो सकता है. कुछ धार्मिक रीति-रिवाज और कानून महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों का हनन कर सकते हैं. धार्मिक रूढ़िवादिता वैज्ञानिक प्रगति और तर्कसंगत सोच में बाधा डाल सकती है. 

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)