logo-image
लोकसभा चुनाव

NEET Paper Leak: छापेमारी के लिए गया पहुंची सीबीआई की टीम, जुटाए जरूरी साक्ष्य

नीट पेपर लीक मामले में मुख्य आरोपी संदीप मुखिया अभी तक फरार है. वहीं, सीबीआई टीम पेपर लीक मामले को लेकर लगातार छापेमारी कर रही है. मंगलवार को सीबीआई की 7 लोगों की टीम बिहार के गया में छापेमारी करने पहुंची.

Updated on: 09 Jul 2024, 09:59 PM

highlights

  • छापेमारी के लिए गया पहुंची सीबीआई की टीम
  • 4 घंटे तक आरोपी के परिजनों से की पूछताछ
  • 11 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई

Gaya:

नीट पेपर लीक मामले में सीबीआई ने अपनी कार्रवाई तेज कर दी है. मंगलवार को सीबीआई की टीम बिहार के गया जिले में पहुंची, जहां उसने पेपर लीक केस मामले के आरोपी शिवनंदन यादव के चाचा निरंजन यादव के घर छापेमारी की. यहां परिजनों से करीब 4 घंटे तक पूछताछ करने के बाद सीबीआई की टीम स्वरूप यादव के घर पहुंची और पेपर लीक से जुडे़ मामले पर पूछताछ की. दोनों जगहों पर पूछताछ करने के बाद अपने साथ साक्ष्य लेकर सीबीआई की टीम वापस लौट गई. बता दें कि पूछताछ के लिए सीबीआई की सात सदस्यीय टीम गया पहुंची थी. बिहार समेत कई राज्यों में सीबीआई की टीम लगातार छापेमारी कर रही है. अब तक बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र, राजस्थान और बंगाल से पेपर लीक मामले में आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं. वहीं, पेपर लीक का मुख्य आरोपी संदीप मुखिया अभी तक फरार है.

नीट पेपर लीक मामले में छापेमारी के लिए गया पहुंची CBI

आपको बता दें कि 5 मई को नीट की परीक्षा ली गई थी. इसमें करीब 24 लाख अभ्यर्थियों ने हिस्सा लिया. उसी दिन बिहार पुलिस को पेपर लीक की जानकारी मिली, जिसके बाद एग्जाम सेंटर पर जाकर पुलिस ने दो अभ्यर्थियों समेत 11 लोगों को गिरफ्तार किया. बिहार EOU की टीम ने पेपर लीक मामले में रिपोर्ट बनाकर केंद्र सरकार को इसकी विस्तृत जानकारी भी दी. वहीं, पेपर लीक को लेकर छात्रों में भारी आक्रोश देखा जा रहा है. जैसे ही पेपर लीक का मामला सामने आया, छात्रों ने रीएग्जाम की मांग उठाई. इस बीच NTA ने रिजल्ट के तय तारीख से 10 दिन पहले ही यानी 4 जून को रिजल्ट की घोषणा कर दी. नीट एग्जाम में 1563 छात्रों को ग्रेस मार्क्स भी दिए गए. जिसे लेकर छात्रों का गुस्सा फुट पड़ा और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में कई याचिका दायर की. 

यह भी पढ़ें- बिहार में मौसम का कहर जारी, बिजली गिरने से 24 घंटे में 12 लोगों की मौत

11 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई

बता दें कि 8 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में CJI वाई चंद्रचूड़, जस्टिस जेबी पारदीवाला और जस्टिस मनोज मिश्रा की बेंच ने सुनवाई की. मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एक बात साफ है कि पेपर लीक हुआ है और यह पता करने की जरूरत है कि पेपर लीक कैसे और कहां से हुआ. साथ ही लीक की सीमा क्या है. इसका पता लगाने की जरूरत है और अगर हम दोषियों की पहचान नहीं कर पाएंगे तो दोबारा परीक्षा का आदेश देना होगा. वहीं, अगली सुनवाई 11 जुलाई को होगी.