logo-image
लोकसभा चुनाव

ईडी के समक्ष पेश हुए आलमगीर आलम, देने होंगे 50 सवालों के जवाब

झारखंड सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ट नेता आलमगीर आलम मंगलवार को ईडी कार्यालय पहुंचे, जहां वे ईडी के सवालों का जवाब देंगे.

Updated on: 14 May 2024, 01:30 PM

highlights

  • ईडी के समक्ष पेश हुए आलमगीर आलम
  • ईडी ने तैयार किए 50 सवाल
  • 70 वर्षीय नेता से पूछताछ जारी

Ranchi:

झारखंड सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ट नेता आलमगीर आलम मंगलवार को ईडी कार्यालय पहुंचे, जहां वे ईडी के सवालों का जवाब देंगे. सूत्रों की मानें तो ईडी ने आलमगीर आलम से पूछने के लिए 50 सवालों की लिस्ट बनाई है. जिसका जवाब कांग्रेस नेता से मांगा जाएगा. बता दें कि 12 मई को ईडी ने आलमगीर आलम को समन भेजा था और 14 मई को पूछताछ के लिए रांची के हिनू स्थित रीजनल कार्यालय में सुबह 11 बजे बुलाया था. आलमगीर आलम तय समय से पहले ही ईडी के ऑफिस पहुंच गए. ईडी के दफ्तर पहुंचने के बाद मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि वह केंद्रीय जांच एजेंसी की टेंडर घोटाले मामले की जांच में पूरा सहयोग करेंगे. जितने भी सवाल किए जाएंगे, वे ज्यादा से ज्यादा सवालों का जवाब देंगे. 

यह भी पढ़ें- झारखंड में 63.14 फीसदी मतदान, 45 प्रत्याशी आजमा रहे किस्मत

ईडी ने आलमगीर आलम के लिए तैयार किए 50 सवाल

आपको बता दें कि ईडी ने कांग्रेस नेता को निर्देश दिया था कि वे अपने आय-व्यय और संपत्ति से जुड़े  दस्तावेज को पूछताछ के दौरान लेकर आने को बोला गया था. आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले ही आलमगीर आलम के पीएस संजीव कुमार लाल के नौकर जहांगीर आलम के घर से करीब 35 करोड़ रुपये कैश बरामद किए. राजधानी रांची में 6 और 7 मई को ईडी ने करीब एक दर्जन से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की, जहां सिर्फ जहांगरी आलम के घर से 32 करोड़ की मोटी रकम बरामद की गई.

70 वर्षीय नेता से पूछताछ जारी

वहीं, संजीव लाल के घर से 10.50 लाख और उनकी पत्नी की कंपनी में पार्टनर बिल्डर मुन्ना सिंह के घर से 3 करोड़ रुपये बरामद किए. जिसके बाद ईडी ने संजीव लाल और उनके नौकर को 7 मई को गिरफ्तार कर लिया. दोनों को 6 दिनों के रिमांड पर रखा गया है और पूछताछ जारी है. कोर्ट में ईडी ने रिमांड को लेकर आवेदन दिया था कि झारखंड के ग्रामीण विकास विभाग की योजनाओं में 15 फीसदी की दर से वसूली हो रही है. संजीव लाल टेंडर मैनेज करने के नाम पर कमीशन वसूला करता था और मोटी रकम अफसरों व नेताओं को दी जाती है. अब देखना यह है कि आलमगीर आलम से पूछताछ के बाद ईडी के सामने क्या नया खुलासा होता है. बता दें कि आलमगीर आलम 70 वर्षीय ग्रामीण विकास मंत्री हैं. फिलहाल, वह विधानसभा में पाकुड़ सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.