logo-image
लोकसभा चुनाव

Jharkhand: हेमंत सोरेन के शपथ लेते ही बांग्लादेशी घुसपैठियों का मामला गर्माया, विपक्ष सरकार पर कर रही है तीखा प्रहार 

लोकसभा चुनाव के कुछ माह बाद विधानसभा चुनाव झारखंड में होने वाले हैं और बांग्लादेशी घुसपैठियों को लेकर भारतीय जनता पार्टी काफी आक्रामक हो चुकी है

Updated on: 09 Jul 2024, 03:35 PM

नई दिल्ली:

झारखंड में सरकार में लगातार उथल-पुथल चल रही थी और तीसरी बार इस बीच मुख्यमंत्री पद का शपथ हेमंत सोरेन लेते हैं. शपथ लेने के बाद झारखंड में बांग्लादेशी घुसपैठियों को लेकर सियासत तेज हो गई है. झारखंड के पाकुड़ जिला से नदी के रास्ते होकर बांग्लादेश से मुस्लिम समुदाय के लोग झारखंड में प्रवेश कर रहे हैं और भारतीय नागरिकता हासिल कर रहे हैं. जिस पर झारखंड हाई कोर्ट ने संज्ञान लिया है. हाई कोर्ट के संज्ञान लेते हैं झारखंड में सियासत तेज हो गई है और राजनीति नया आयाम लिखने को तैयार है. लोकसभा चुनाव के ठीक कुछ महीने बाद विधानसभा चुनाव झारखंड में होने जा रहे हैं और बांग्लादेशी घुसपैठियों को लेकर भारतीय जनता पार्टी काफी संजीदगी दिख रही है. 

ये भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के कठुआ में सेना की गाड़ी पर आतंकी हमला, 5 जवान शहीद, पांच घायल, ग्रेनेड से बनाया निशाना

सत्ता पक्ष के राजनेताओं का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी के पास झारखंड सरकार के खिलाफ कोई मुद्दा नहीं है. सरकार के विकास कार्यों और हेमंत सोरेन के जनकल्याणकारी योजनाओं से भारतीय जनता पार्टी के नेता घबरा गए हैं. इसीलिए एक केंद्रीय मंत्री शिवराज सिंह चौहान और असम के मुख्यमंत्री हेमंत विश्व शर्मा को चुनावी जंग में उतारने की तैयारी की है. बांग्लादेशी घुसपैठिए झारखंड में प्रवेश कर रहे है तो केंद्र सरकार क्या कर रही है. क्या भारत के कानून में सेंट्रल एजेंसियां झारखंड में कोई काम कार्य अपने मन से नहीं कर सकती. इसलिए भाजपा बांग्लादेशियों को घुसने में मदद करती है और एक सोची समझी वोट बैंक का साजिश करने में जुटी हुई है. 

मन मुताबिक बांग्लादेशियों को प्रवेश कराती है

झारखंड सरकार के सत्तापक्ष और विपक्ष ने पाकुड़ में हुई घटना की तीखा प्रहार किया है. उन्होंने हाई कोर्ट से मामले को संज्ञान में लेने के लिए कहा है और राज्य सरकार के खिलाफ टिप्पणी करते हुए कहा कि झारखंड में गठबंधन कि कांग्रेस झारखंड मुक्ति मोर्चा और राजद की सरकार अपने मन मुताबिक बांग्लादेशियों को प्रवेश कराती है और उन्हें भारतीय नागरिकता देने में केंद्र सरकार को गुमराह करने का काम करती है. ऐसे में झारखंड सरकार को समझना चाहिए कि जिस तरह से झारखंड के संसाधनों पर बाहरी लोग कब्जा कर रहे हैं और सत्ता के लालची उन्हें उसे काम में श्रेय दे रहे हैं.

बांग्लादेश बनाने की तैयारी की जा रही

झारखंड के हित की बात छोड़कर बांग्लादेशियों को झारखंड में बसाकर बांग्लादेश बनाने की तैयारी की जा रही है. जिसके खिलाफ झारखंड में भाजपा लगातार आवाज उठा रही है. वही सत्ता पक्ष के विधायक राजेश कच्छप ने कहा है कि यह दुख की बात है कि बांग्लादेशी घुसपैठिए हमारे राज्य में प्रवेश कर रहे हैं एक दिन इन्हीं से राज्य को खतरा होगा. राज्य सरकार को इस मामले पर संज्ञान लेना चाहिए ताकि हमारा झारखंड में जो आमूल चूल परिवर्तन है वह झारखंडियों के लिए हो.