logo-image
लोकसभा चुनाव

Bhopal Vegetables Rate: भोपाल में सब्जियों के दाम में उछाल, टमाटर के भाव में आई कमी

भोपाल में सब्जियों के दामों में उछाल और टमाटर के भाव में थोड़ी कमी ने शहर के नागरिकों के लिए एक मिश्रित तस्वीर पेश की है. बारिश के कारण सब्जियों की आपूर्ति में कमी और उनके सड़ने-गलने से दाम बढ़ रहे हैं.

Updated on: 10 Jul 2024, 01:06 PM

highlights

  • भोपाल में सब्जियों के दाम में उछाल
  • टमाटर के भाव में आई कमी
  • लगातार हो रहे बारिश का असर

New Delhi:

MP Bhopal Vegetables Price News: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में हाल ही में सब्जियों के दामों में काफी बदलाव देखा गया है, जहां एक ओर टमाटर के दामों में थोड़ी कमी आई है. वहीं दूसरी ओर बाकी सब्जियों के भाव में उछाल देखा जा रहा है. बुधवार को करोंद मंडी में टमाटर के थोक भाव 60 रुपये प्रति किलो रहे, जबकि अन्य सब्जियों के दाम में बढ़ोतरी जारी है. भोपाल में 80 से 100 रुपये प्रति किलो बिकने वाले टमाटर के दाम में हाल ही में थोड़ी कमी आई है. बुधवार को थोक मंडी में टमाटर के दाम 60 रुपये प्रति किलो पर आ गए. 20-25 दिन पहले, टमाटर 30 से 40 रुपये प्रति किलो बिक रहे थे, लेकिन अचानक ही इनके दाम 80 से 100 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए थे. अब इस मामूली कमी से ग्राहकों को थोड़ी राहत मिली है.

यह भी पढ़ें: हिमाचल की इन तीन सीटों पर हो रहे हैं उपचुनाव, जानें अब तक कितना हुआ मतदान

बाकी सब्जियों के भाव में उछाल

हालांकि, टमाटर के दाम में आई कमी के बावजूद अन्य सब्जियों के भाव में उछाल देखा गया है. प्याज 40 से 60 रुपये प्रति किलो के बीच बिक रहा है, जबकि हरा धनिया 200 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गया है. भिंडी और करेला 50 रुपये प्रति किलो, मेथी 80 रुपये प्रति किलो, आलू 35 से 40 रुपये प्रति किलो और मिर्च 100 रुपये प्रति किलो पर बिक रहे हैं.

बारिश का असर

बारिश के मौसम में हरी सब्जियों के दाम बढ़ने की एक प्रमुख वजह सब्जियों का सड़ना-गलना होता है. भारी बारिश के कारण खेतों में कीचड़ हो जाता है और सब्जियां सड़ जाती हैं, जिससे मंडी तक सब्जियों की पर्याप्त आपूर्ति नहीं हो पाती. करोंद सब्जी मंडी के थोक व्यापारी शेख माजिद ने बताया कि बारिश के दौरान सब्जियों के दाम में कमी आने की उम्मीद नहीं है. किसानों को खेतों से सब्जियां निकालने में दिक्कतें होती हैं, जिससे मंडी तक सब्जियों की आपूर्ति प्रभावित होती है.

किसानों और व्यापारियों की समस्याएं

बारिश के दौरान सब्जियों के खराब होने से किसानों और व्यापारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है. खेतों में कीचड़ और लगातार बारिश के कारण सब्जियां सड़ने लगती हैं, जिससे फसल खराब हो जाती है. इस स्थिति में, सब्जी मंडी तक पर्याप्त सब्जियां नहीं पहुंच पाती और दाम बढ़ जाते हैं. सब्जियों की बढ़ती कीमतों का असर सीधा आम जनता पर पड़ता है, जिससे उनका बजट प्रभावित होता है.

भविष्य की संभावनाएं

आने वाले दिनों में सब्जियों के दाम में और उछाल आने की संभावना है. बारिश के चलते सब्जियों की आपूर्ति में और कमी हो सकती है, जिससे दाम और बढ़ सकते हैं. थोक व्यापारियों के मुताबिक, इस साल बारिश की अधिकता के कारण सब्जियों के दाम में स्थिरता आने में समय लगेगा.