logo-image
लोकसभा चुनाव

बच्चों को लेकर फिर चर्चा में सीमा हैदर, विदेश मंत्रालय को लिखा गया लेटर

उत्तर प्रदेश के नोएडा के रहने वाले सचिन मीणा की लव स्टोरी कौन नहीं जानता? सचिन मीणा के प्यार में सीमा हैदर ने पाकिस्तान से भारत तक का रास्ता तय कर लिया. सीमा हैदर को पाकिस्तानी भाभी के नाम से मशहूर हो चुकी है

Updated on: 10 Jun 2024, 09:19 PM

highlights

  • बच्चों को लेकर चर्चा में आई सीमा हैदर
  • पाकिस्तान वापस लाने की उठी मांग
  • विदेश मंत्रालय को लिखा गया लेटर

Noida:

उत्तर प्रदेश के नोएडा के रहने वाले सचिन मीणा की लव स्टोरी कौन नहीं जानता? सचिन मीणा के प्यार में सीमा हैदर ने पाकिस्तान से भारत तक का रास्ता तय कर लिया. सीमा हैदर को पाकिस्तानी भाभी के नाम से मशहूर हो चुकी है. सीमा की पहली शादी से चार बच्चे हैं और अब चारों बच्चों को वापस लाने की मांग पाकिस्तान के राष्ट्रीय बाल कल्याण आयोग ने विदेश मंत्रालय से की है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय को लिखे पत्र में आयोग ने कहा है कि हमें सीमा हैदर के चारों बच्चों को वापस लेकर आना चाहिए, जो भारत में फंसे हुए हैं. बता दें कि सीमा हैदर के पूर्व पति गुलाम हैदर ने पाकिस्तान और भारत की सरकार से गुहार लगाई थी कि बच्चों को उन्हें सौंपा जाए. वहीं, सीमा हैदर का कहना है कि उसने सचिन मीणा से शादी रचा ली है और वह कभी भी भारत छोड़कर पाकिस्तान नहीं जाएगी.

यह भी पढ़ें- PM नरेंद्र मोदी के मंत्रियों को मिले विभाग, किसको कौन सा मंत्रालय देखें पूरी लिस्ट

बॉर्डर पार की प्रेम कहानी

सीमा और सचिन की प्रेम कहानी एक समय में देश में सबसे ज्यादा चर्चा का विषय बन हुआ था. दोनों की मुलाकात ऑनलाइन गेमिंग के दौरान हुई थी और फिर दोनों की दोस्ती हो गई. फिर घंटों फोन पर बातें शुरू हो गई और बातें प्यार में बदल गई. सचिन से मिलने के लिए सीमा ने पहले अपना घर बेच दिया और करांची से नेपाल मिलने चली आई. दूसरी बार सचिन के लिए सीमा ने बॉर्डर पार कर लिया और भारत पहुंच गईं.

सीमा हैदर के पति ने की बच्चों को वापस लाने की मांग

सीमा और सचिन को देश के बाहर भेजन की भी मांग उठ चुकी है. उधर, सीमा हैदर का पूर्व पति गुलाम हैदर भी बच्चों को पाकिस्तान लाने की मांग कर रहा है. सीमा और सचिन का कहना है कि दोनों ने हिंदू रीति रिवाज से शादी रचा ली है. पाकिस्तान बाल संरक्षण आयोग का कहना है कि सीमा के चारों बच्चों पर हिंदू धर्म अपनाने का दबाव बनाया जा रहा है. बच्चों को वापस पाकिस्तान लाना चाहिए.