logo-image
लोकसभा चुनाव

UP News: प्रदेश के कृषि मंत्री को नहीं पता दाल के भाव, 100 रुपये कहकर लगे हंसने

यूपी के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही का एक वीडियो चर्चा में आ गया है, जिसमें वे दाल की कीमत बताते हुए हंस रहे हैं. इतना ही नहीं कृषि मंत्री को तो दाल के भाव तक नहीं पता. जिस पर यूपी में उपचुनाव से पहले राजनीति शुरू हो चुकी है.

Updated on: 09 Jul 2024, 08:49 PM

highlights

  • यूपी के कृषि मंत्री का वीडियो हुआ वायरल
  • कृषि मंत्री को नहीं पता दाल की कीमत
  • दाल पर यूपी में राजनीति शुरू

Lucknow:

यूपी के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, जिसमें शाही दाल के भाव बताते हुए ठहाके लगाते नजर आ रहे हैं. दरअसल, केंद्र सरकार की पहल पर 19 जुलाई को यूपी में प्राकृतिक खेती और कृषि विज्ञान पर क्षेत्रीय परामर्श कार्यकम का आयोजन किया जा रहा है. जिसकी जानकारी देने के लिए प्रदेश के कृषि मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान जब कृषि मंत्री से वहां मौजूद मीडिया कर्मियों ने अरहर की दाल का भाव पूछा तो उन्होंने उसकी कीमत 100 रुपये किलो बताया. जिस पर पत्रकारों ने सवाल किया कि यूपी में कहां 100 रुपये किलो दाल मिल रही है. यह सवाल सुनते ही मंत्री जी जोर से हंस पड़े. उन्हें हंसता देख वहां मौजूद जूनियर मंत्री की भी हंसी छूट गई. 

यूपी के कृषि मंत्री का वीडियो हुआ वायरल

यूपी के कृषि मंत्री के यह वीडियो चर्चा का विषय बन गया है. दरअसल, पूरे प्रदेश में दाल 200-250 रुपये किलो बिक रही है, लेकिन कृषि मंत्री जी को दाल का भाव ही नहीं पता है. लोग इस वीडियो पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं. योगी सरकार में कृषि मंत्री का इस तरह से दाल के दाम का पता ना होना और दाम पूछे जाने पर गलत जवाब देकर हंसना लोगों को पसंद नहीं आ रहा है. वहीं, अब सूर्य प्रताप शाही के इस बयान पर विपक्षी नेता तंज कसते हुए नजर आ रहे हैं.

यह भी पढ़ें- विपक्ष के नेता बनने के बाद रायबरेली पहुंचे राहुल गांधी, हनुमान मंदिर में किए दर्शन

दाल के दाम पर यूपी में राजनीति शुरू

कांग्रेस नेता ने कृषि मंत्री के इस बयान पर तंज कसते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव के परिणाम ने बीजेपी को आंटे-तेल का तो भाव बता दिया, लेकिन अब विधानसभा चुनाव के परिणाम इनको दाल का भाव बताएगी. सूर्य प्रताप शाही के दाल के दाम पर हंसने को लेकर समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता फखरुल हसन चंद ने भी जुबानी हमला बोला है. उन्होंने कहा कि यह महंगाई की हंसी थी. इस तरह से हंसना गरीबी और गरीबों का मजाक उड़ाना था. यूपी में उपचुनाव होने वाले हैं और इन 10 विधानसभा सीटों पर जनता फिर से भाजपा को जवाब जरूर देगी.