logo-image
लोकसभा चुनाव

सावन माह में श्रद्धालुओं के लिए तैयार है काशी, किए गए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

श्रावण मास के दौरान काशी विश्वनाथ मंदिर में भक्तों की संख्या में भारी वृद्धि होती है. इसे ध्यान में रखते हुए मंदिर प्रशासन ने विभिन्न व्यवस्थाएं सुनिश्चित की हैं, ताकि श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े.

Updated on: 10 Jul 2024, 02:58 PM

highlights

  • सावन माह में श्रद्धालुओं के लिए तैयार है काशी
  • किए गए सुरक्षा के कड़े इंतजाम
  • CCTV कैमरे और पुलिस की विनम्रता

New Delhi:

Sawan 2024: सावन महीने में शिव भक्तों की संख्या काशी विश्वनाथ मंदिर में आम दिनों की तुलना में काफी बढ़ जाती है. इसे ध्यान में रखते हुए काशी विश्वनाथ मंदिर प्रशासन ने मंडलायुक्त और पुलिस कमिश्नर की अध्यक्षता में एक व्यापक बैठक का आयोजन किया. इस बैठक में मंदिर में आने वाले दर्शनार्थियों की सुविधाओं और सुरक्षा के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. बैठक में निर्णय लिया गया कि पूरे धाम को सीसीटीवी कैमरों से लैस किया जाएगा और एक कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा. 22 जुलाई से 19 अगस्त तक चलने वाले श्रावण मास में बड़ी संख्या में श्रद्धालु काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन के लिए आएंगे, इसे ध्यान में रखते हुए मंदिर प्रशासन ने कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं. इनमें लाइव दर्शन, खोया-पाया केंद्र, मैदागिन से गदौलिया के बीच नो व्हीकल जोन, दिव्यांग, वृद्ध और अति विशिष्ट लोगों के लिए मुफ्त ई-रिक्शा सेवा शामिल हैं.

यह भी पढ़ें: हिमाचल की इन तीन सीटों पर हो रहे हैं उपचुनाव, जानें अब तक कितना हुआ मतदान

सीसीटीवी कैमरे और पुलिस की विनम्रता

संपूर्ण धाम को सीसीटीवी कैमरों से लैस किया जाएगा, खासतौर पर गर्भगृह के आसपास. पुलिसकर्मियों को श्रद्धालुओं के साथ विनम्र व्यवहार करने के लिए विशेष निर्देश दिए गए हैं. यह सुनिश्चित करने के लिए कि भक्त बिना किसी परेशानी के अपने दर्शन कर सकें, यह कदम उठाए गए हैं.

सुरक्षा और चिकित्सा सुविधा

श्रद्धालुओं की सुरक्षा के साथ-साथ चिकित्सा सुविधाओं का भी विशेष ध्यान रखा गया है. मंडलायुक्त ने पब्लिक एड्रेस सिस्टम और गलियों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं. मंदिर परिसर में स्वास्थ्य विभाग को पर्याप्त चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है, जिससे आवश्यकता पड़ने पर श्रद्धालुओं को समय पर चिकित्सा सहायता मिल सके.

जल, शौचालय और अन्य सुविधाएं

दर्शनार्थियों के लिए साफ पानी, शौचालय और निकास एवं प्रवेश की सुलभ व्यवस्था को लेकर भी दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. यह सुनिश्चित किया गया है कि किसी भी श्रद्धालु को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े.

काशीवासियों की विशेष मांग

काशीवासियों की मांग थी कि उन्हें काशी विश्वनाथ मंदिर में एक निश्चित प्रवेश द्वार से मंदिर में जाने की अनुमति मिले, जिससे उन्हें आसानी से बाबा विश्वनाथ का दर्शन हो सके. इसे ध्यान में रखते हुए बैठक में इस पर चर्चा की गई. अब काशीवासियों को नंदूफारिया मार्ग से सुबह 4 से 5 और शाम को 4 से 5 बजे तक प्रवेश की अनुमति मिलेगी. सबसे पहले यह नियमित दर्शनार्थियों के लिए खोला जाएगा और बाद में यह व्यवस्था सभी काशीवासियों के लिए लागू की जाएगी.