logo-image
लोकसभा चुनाव

ऋषिकेश एम्स में पुलिस वैन चौथी मंजिल पर कैसे पहुंची...पुलिस को क्यों करना पड़ा ऐसा, सामने आई ये बड़ी वजह

ऋषिकेश एम्स के वायरल वीडियो पर अस्पताल निदेशक मीनू सिंह का बयान सामने आया है. उन्होंने बताया है कि पुलिस को ऐसा क्यों करना पड़ा.

Updated on: 24 May 2024, 08:53 AM

नई दिल्ली:

सोशल मीडिया पर ऋषिकेश एम्स का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें पुलिस वैन सीधे अस्पताल के अंदर घुस जाती है. पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए ऐसा किया था. वीडियो वायरल होने के बाद कई लोगों ने नाराजगी जताई कि ये तरीका पुलिस की बिल्कुल भी सही नहीं है. अब इसी विवाद पर ऋषिकेश एम्स के निदेशक का बयान सामने आया है. ऋषिकेश एम्स की निदेशक मीनू सिंह ने सफाई देते हुए कहा कि अस्पताल में एक घटना हुई थी, जिसमें एक महिला डॉक्टर के साथ छेड़छाड़ की गई थी. 

ऋषिकेश एम्स निदेशक का बयान आया सामने

उन्होंने कहा कि आरोपी को मनोरोग वार्ड में भर्ती कराया गया. डॉक्टर जल्द से जल्द आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई चाहते हैं. उन्होंने वार्ड को घेर लिया था, इसलिए पुलिस ने आरोपियों को बाहर निकालने के लिए कार का इस्तेमाल किया. पुलिस ने बैटरी वाहनों के लिए बने रैंप का इस्तेमाल किया, यह एक आपातकालीन कार्रवाई थी, जिसमें कोई भी मरीज घायल नहीं हुआ.

क्या था पूरा मामला?

आपको बता दें कि 19 मई की शाम ऑपरेशन थियेटर के अंदर सर्जरी चल रही थी, इसी दौरान नर्सिंग कर्मचारी सतीश कुमार विभाग में कार्यरत महिला डॉक्टर से छेड़खानी करने लगा, जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ. आरोपियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने के लिए डॉक्टरों के समूह ने वार्ड को घेर लिया.

ये भी पढ़ें- उत्तराखंड पुलिस का फिल्मी अंदाज, आरोपी को पकड़ने के लिए गाड़ी लेकर सीधे अस्पताल में मारी एंट्री, देखें वीडियो

पुलिस ने लिया तुरंत एक्शन

उस दौरान डीन कार्यालय का भी घेराव किया गया था. जब पुलिस को शिकायत मिली तो उन्होंने मामला दर्ज कर लिया और जब कार्रवाई करने अस्पताल पहुंचे तो वे वैन को सीधे चौथी मंजिल पर ले आए, जहां आरोपी बैठा था. इसके बाद उन्हें वहां से गिरफ्तार कर लिया गया.

ये रहा फिल्मी अंदाज वाला वायरल वीडियो

हमने यहां वीडियो भी शेयर किया है, जिसमें पुलिस वाहन को लेकर अस्पताल के अंदर आती है. वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिस गाड़ी लेकर अस्पताल में दाखिल होती है. पुलिस अपने वाहन को रैंप नीचे आती हुई नजर आ रही है. वीडियो में देखा जा सकता है कि अस्पताल में लोगों की भारी भीड़ है. पुलिस वार्ड के अंदर वाहन को लेकर आती है, जहां आप देख सकते हैं कि मरीजों के बेड हटाए जा रहे हैं.